काजल अग्रवाल की चुत

राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी

राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी, आरती ने कहा कि नही ऐसे अच्छा नही लगता,तब मनु ने कहा कि मम्मी आप को चलने मे क्या प्राब्लम है पापा से मे इजाज़त ले लूँगा,इस बात पर आरती ने कहा कि फिर वो चल चलेगी. वीना: वो क्या सोचेगी मेरे बारे मे…कि मम्मी की ठुकाइ कितनी ज़ोर से कर रहा है तुषार…श्िीीईईई तुषार मुझे बहुत अजीब सा लगता है…जब से मुझे पता चला कि, अनु अब चुदाई की आवाज़े सुनने की कॉसिश करती है….

राधा- ऐसी बात नहीं है पापा.. मैं अभी तो कितने साल बाद आई हूँ.. आप मुझे दोबारा अपने से दूर करना चाहते हो। अगले दिन कुणाल तैयार होकर विजय के पास पहुँच गया, सुबह का वक़्त था, विजय अभी जिम से आया ही था, उसने कामिनी को बुलाकर कह दिया की आज से कुणाल उसका ड्राइवर है,

मगर अमृता तो खुद आज किसी और ही मोड़ में थी | वो तो सिर्फ मुझे छेड़ने और उकसाने के लिए ये सब कह रही थी |मुझे परेशान देखा कर उसे मजा आ रहा था | फिर वो मेरे लंड को अपने हाथ से रगड़ते हुए मुस्कुराकर बोली- और अगर खुद ही दे दूँ तो ? राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी भले ही ये सब करते हुए उसका खुद पर नियंत्रण नही था..पर उसकी इस हरकत को देखकर सामने बैठे दोनो ठरकियों के लौड़े कबूतर की तरह फड़फड़ाने लगे..

गुढीपाडवा हार्दिक शुभेच्छा फोटो

  1. ये उसने कामिनी को चोट पहुँचाने के इरादे से कही थी...और वो चोट लगी भी..पर कामिनी ने उसे उजागर नही होने दिया..
  2. कुणाल को विश्वास ही नही हुआ...पहले ही दिन वो उससे इतना इंप्रेस हो गयी थी की पिछली सीट से उठकर अगली पर आ चुकी थी... लड़का लड़की सेक्स कैसे करते हैं
  3. नीतू- ज़्यादा चूत-चूत कह कर होशियारी मत कर.. बस मुँह से चाटनी है.. हाथ टच नहीं होना चाहिए.. नहीं तो गए तेरे पैसे.. समझा? वीना: आप मेरी हालत के बारे मे क्यों नही सोचते…मे नही धोखा दे सकती अपनी परिवार को….मे अपने पति……(वीना बोलते बोलते चुप हो गयी….)
  4. राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी...रश्मी ने अपने पैने निप्पल से उसके होंठों को रगड़ना शुरू कर दिया...पर वो तो जैसे भाव खा रहा था...मज़ा भी उसको लेना था और भाव भी खुद ही खाने लगा.. रश्मी भी खुश हो गयी....वैसे भी खाना खाने के बाद वो रात को 12 बजे तक जागती रहती थी...ऐसे मे अपने भाई के साथ कुछ वक़्त गुजारने की बात सुनकर वो काफ़ी खुश हुई..और उसने खुशी-2 हाँ कर दी.
  5. मोनू : अरे नही....ब्लफ भला ये क्या जाने...हम दोनो बस घर बैठकर थोड़ा बहुत खेल लेते हैं, बस वही आता है इसे...चलो, एक बार और बाँटो पत्ते...देखते हैं की इसकी कैसी किस्मत है ...'' मे: हां वैसे अगर तुमने ध्यान से नही सीखा तो मे तुम्हे सज़ा भी दे सकता हूँ….(मेरी बात सुन कर अनु ने मेरी तरफ देखा….)

मां और बेटे की चुदाई की कहानी

वीना: वो सन्नी मेरे बिना नही सोता…..अभी मैने उसको सुलाया है….अगर वो उठ गया तो फिर रोने लग जाता है…अगर मे पास मे ना रहूं तो…

दिलीप जी- ओह मेरी बेटी.. सॉरी.. मैंने भी तुमको बहुत ढूँढा.. मगर तुम नहीं मिलीं.. अच्छा उस दिन की बात जाने दो.. पहले की कुछ बात याद है? वो खुश होती उही बोली : क्या, सच में , आप तैयार हो...मैं कल ही साहब को बोलकर तुम्हारी ड्यूटी शुरू करवा देती हूँ ..पर मुझसे वादा करो की आप ये जुआ और शराब छोड़ दोगे, मैं नही चाहती की कोई इनकी वजह से आपको कुछ कहे..''

राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी,काकी - दस दिन में क्या होगा? और बात एक पार्टी की नहीं है.....अब बच्चे हमेशा हमारे साथ रहेंगे. आज एक पार्टी कर ली हमने तो आगे भी सब हमें ही करना पड़ेगा. कब तक इसी चक्कर में पड़े रहेंगे?

अमृता जानती थी कि मुझे सबसे ज्यादा पागलपन तब चड़ता है जब वो मेरा लंड हाथ ले लेकर (या सेक्स करते समय) बहुत प्यार से मुझे भईया बुलाती है |

नीरज ने अपने पैसे माँगे तो नीतू साफ मुकर गई, उसने कहा- तूने जो हरकत की है.. वो उसके बदले पूरे हो गए.. अब जाओ नहीं तो शोर मचा कर सब को बुला लूँगी।हिंदी बीएफ बढ़िया वाली

रश्मी : हाँ ...रुची ....और मै किचन मे ही थी...जब तुम उपर आई...इसलिए मैने जब तक उपर आकर देखा की तुम क्या कर रही हो तो.....आधे से ज़्यादा मामला निपट चुका था....'' पूछना तो रश्मी बहुत कुछ चाहती थी..पर फिर भी अपने होंठों को दांतो से काटकर बड़ी मुश्किल से अपने आप पर काबू किया और बोली : तेरी....तेरी...एक गर्लफ्रेंड थी ना...वो अभी भी है क्या...और क्या नाम है उसका..''

और मोनू से ज़्यादा गुस्सा तो राजू को आ रहा था अपने उपर...क्योंकि उसके पास पेयर था और उसके बावजूद उसने पैक कर दिया था. अगर उसने पैक नहीं किया होता तो वो ये बाजी जीत चुका होता

काकी - मैं क्या करुँगी रे....दिन भर घर का ही इतना काम रहता है. वही सब देखना होता है. उसी में दिन निकल जाता है.,राष्ट्रीय संरक्षण प्रबोधिनी मगर उसने बुखार का बहाना बना दिया। वो चाह रही थी कि माँ उसको स्कूल जाने से रोक दे.. मगर ऐसा हुआ नहीं और वो बेचारी बेमन से स्कूल के लिए निकल गई।

News