புதிய தமிழ் காமக்கதைகள்

അമേരിക്കൻ സെക്സ്

അമേരിക്കൻ സെക്സ്, शिवा: आऽऽऽहहह मैं अपनी मम्मी की बात कर रहा हूँ। वो भी ऐसे ही लंड का रस पीतीं थीं जैसे तुमने और मालिनी ने अभी पिया। मुन्नी: हमारे जीजा जी बहुत अच्छें है। वो ऐसा नहीं करेंगे। हाँ चारु ज़्यादा उछल रही है। शायद इसके साथ वो ऐसा कर लेंगे ।

राजीव: हाँ हाँ हम एक दूसरे को फ़ोन करते है। और जब भी मिलते है बहुत बातें करते है। अभी फ़ोन लगाऊँ उसको? मालिनी चुपचाप अपनी गाँड़ में ऊँगली करवा रही थी और अब उसकी जाँघ में भी दवाई लगाई और अब तो उसकी चड्डी में से उसका लौंडा खड़ा होकर अचानक उसकी चड्डी से बाहर आ गया। मोटा सुपाड़ा बाहर आकर बाहर झाँक रहा था और उसके छेद से एक बूँद प्रीकम भी दिख रहा था। अब मालिनी की बुर भी गीली होने लगी।

शिवा अब हल्के हल्के धक्के मारने लगा जैसा उसने अशोक को करते हुए देखा था पिंकी के साथ। जल्दी ही मालिनी भी मस्ती में आ गयी और उन्न्न्न्न्न्न्न उन्न्न्न्न करके अपनी ख़ुशी का इजहार करने लगी। शिवा अभी भी उसके निपल और दूध को प्यार किए जा रहा था। അമേരിക്കൻ സെക്സ് नूरी: आप बिलकुल नहीं बदले। आपको अभी भी चुदाई शब्द का बहुत शौक़ है। हा हा । पर आपकी बहू इसमेंआपकी मदद करेगी वो बात मेरे गले नहीं उतर रही। सच सच बताइये कि आप कहीं उसकी भी चुदाई तो नहीं कर रहें हैं?

भाई बहन की सेक्सी वीडियो इंग्लिश

  1. शीला: हाँ वो दोनों बहुत अच्छे हैं । मालिनी सोची कि ससुर कितने अच्छें है वो तो मैं देख चुकी हूँ। मज़े से चोद रहे थे इसे। वो बोली: तुम बैठो मैं चाय लाती हूँ।
  2. थोड़ी देर तक वो शिवा और राजीव से अब तक की तय्यारियों का अपडेट ली और बोली: बाप रे, अभी बहुत काम बाक़ी है। चलो अब मैं आ गयी हूँ , अब सब ठीक कर दूँगी। कहते हुए वह राजीव का हाथ जो उसकी छाती को छू रहा था , उसे अपने हाथ में लेकर वह उसे चूम ली और बोली: पापा आइ लव यू। ताजुद्दीन महाराज शेख यांचे कीर्तन
  3. उधर राजीव अब मालिनी की ब्रा भी खोल चुका था और अब वो उसकी चूचियाँ दबाते हुए चूसने लगा था। मालिनी ने सरला से निगाह चुराते हुए उसका सिर अपनी चूचि पर दबाया और आऽऽऽऽऽह कर उठी। अब राजीव उसे लिटा दिया और उसके ऊपर आकर उसके होंठ और चूचियाँ चूसने लगा। भोला- मेमसाहब बहुत तड़पाया है अपने आज चुड़ूँगा नहीं आज सिर्फ़ तो साथ देना पड़ेगा और कुछ नहीं आज तो कुछ भी कर सकता हूँ
  4. അമേരിക്കൻ സെക്സ്...रीमा:अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह धीरीईईईई ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अहह बहू सुन्न्ञनणणन् लीईए गीईई अहह मरररर गाईईईईई राजीव: नहीं बहु, मैं कभी रेप कर ही नहीं सकता वो अभी अपनी लाड़ली बहु का? ये कहते हुए उसने उसकी चूचि छोड़ दी। और बोला: लो बहु अब बराबर हो गया। दोनों चूचियाँ बराबर से दबा दीं।
  5. राकेश: मम्मी थैंक यू । आपने मुझे ये दर्जा दिया। मैं आपका पूरा ध्यान रखूँगा। इसी साल मेरी पढ़ाई पूरी हो जाएगी और जॉब लगते ही आप मेरे साथ रहना मेरी बीवी बनकर । अचानक मालिनी रुकी और सिर उठाई और मम्मी को देखी अब वो सन्न रह गयी थी। उफफफ मम्मी रँडी की तरह दो मर्दों से मज़ा ले रही थी। और वो दोनों बाप बेटा थे ।अब सरला की आऽऽऽऽऽऽऽह निकलने लगी थी। अब उसकी गाँड़ हिलने लगी थी राजीव कि उँगलयों के साथ साथ। शिवा भी उसकी निपल्ज़ को मसलते हुए उसको मज़े से भर गया था।

ఎక్స్ ఎక్స్ మూవీ

डॉली: अरे उसी के भरोसे तो काम चल रहा है। बहुत प्यारा है वो हर रोज़ एक बार तो अपनी अधेड़ सास को चोद ही देता है।

मालिनी ने महसूस किया कि उसकी गाँड़ पर दोनों के ही हाथ हैं। वो अजीब सा अनुभव की और गरम होने लगी। उसका मुँह शिवा की गोद में था और वो महसूस करके कि उसका लौड़ा खड़ा हो रहा है मस्ती से भरने लगी और बोली: उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ आप लोग ये क्या कर रहे हो? आऽऽऽह। छी हाथ हटाओ ना। छोड़ो मुझे। राजीव: अरे बेटा अब तुम जवान हो गए हो। इसमें हिचकना कैसा? चलो तुम्हारे लिए भी मँगाते हैं। पर बेटा, इसको कभी भी आदत नहीं बनाना। कभी कभी ऐसे अवसरों पर चलता है।

അമേരിക്കൻ സെക്സ്,राजीव: देखो रानी मैं तुम्हारे साथ ज़बरदस्ती नहीं करना चाहता हूँ, तुम्हारे पति की तरह। अगर सच में यह तुम चाहती हो तो चलो आओ और अभी मेरी गोद में बैठ जाओ वरना किचन में चली जाओ। यह कहते हुए उसने अपना काम बंद किया और अपनी टाँगें फैला दी जैसे कह रहा हो आओ रानी यहाँ बैठो।

रेणु;अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह जानीउऊुुुुुउउ अहह हाआाआआन्णन्न् आईसीईईईईईईई हीईईईई और जोर्र्र्रर से चूसोन्ंननननणणन् अहह बहुत मज़ा आआआआ र्हहा हाईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई हन्ंनननननननणणन् अपणीईीईईईईई जीईभह मेरीईई चूत्त्त्त्त्त्त्त्त्त मेंन्ननणणन् घुसाा दूऊव ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह

मालिनी हँसकर: फ़ालतू बात ना करो और आप जल्दी से तय्यार हो जाओ। अब राजीव ने चड्डी पहनी और पैंट भी पहनकर तय्यार होने लगा।गणेश नावाची रास कोणती

कामया कुछ कहती तब तक तो गाड़ी एक पेड़ के नीचे रुक गई थी गाड़ी के अंदर ही ऋषि अपनी जगह में चला गया था और भोला उतर कर वही पेड़ के नीचे ही पिशाब करने लगा था कामया और ऋषि ने अपना चहरा फेर लिया था कितना बेशर्म है यह कोई चिंता ही नहीं खेर भोला पिशाब करके वापस आया और गाड़ी अपने मुकाम की ओर दौड़ पड़ी थी उधर राजीव भी आज बहुत ख़ुश था । उसे लग रहा था कि उसका लौड़ा मालिनी की बुर से अब सिर्फ़ दो क़दम ही दूर है। वो भी अपना लौड़ा सहला कर चुदाई के सपने देखने लगा था।

सरला हँसकर : आज ही सब कुछ ले लेगा क्या? वैसे वो ख़ुद भी गाँड़ मरवाना चाहती थी क्योंकि कई दिनों से वहाँ लण्ड नहीं ली थी।

सरला चौंक कर बोली: छि पंडित जी , ये क्या कह रहे हैं? भला इस उम्र में मुझे ये सब करना शोभा देता है क्या? ये नहीं हो सकता।,അമേരിക്കൻ സെക്സ് सरला: हाँ जी आपको भाभी तो मज़ा नहीं देती इसलिए मुझे ही रगड़ोगे आप तो। चलो अब जल्दी से वरना कोई देख लेगा। वो दोनों अलग हुए तो वह अपनी साड़ी का पल्लू ठीक करते हुए बोली: देखिए पूरा ब्लाउस छाती के ऊपर कैसा मसल दिया है आपने ।कोई भी समझ लेगा कि क्या हुआ है मेरे साथ।

News