बीएफ सेक्स इंडियन

रेव्ह पार्टी म्हणजे काय

रेव्ह पार्टी म्हणजे काय, आंटी अपने बिस्तर पर लेटी हुई कोई उपन्यास पढ़ रही थीं, उनकी नाइटी घुटनों तक ऊपर चढ़ी हुई थी। नाइटी इस प्रकार से उठी हुई थी कि आंटी की गोरी-गोरी टाँगें, मोटी मांसल जांघें और जांघों के बीच में सफेद रंग की पैन्टी साफ़ नज़र आ रही थी। उसने एकदम से चौंक कर मेरी तरफ देखा और फिर नजरें झुका कर बोली- शक्ति, मेरे घर में आज से तीन दिन तक कोई नहीं है। क्या तुम मेरे साथ रह सकते हो?

भाई लंड मेरी चूत में डाल दो कौशल'ने वैसे ही किया. अब मधु नीचे थी जबकि कौशल उस'के ऊपर और कौशल के ऊपर गजजू था. वह ऐसे ही लेट गया. कोई भी हिल नहीं रहा था.. मैने रूचि से कहा की, बस ठीक है फूफी फ़रहीन में अपने कमरे में जाता हूँ किया फायदा आप की मिनाताईं करने का. मैंने खफ्गी का इज़हार किया और उनके हाथ से अपना लंड छुड़ा लिया. फूफी फ़रहीन ने जल्दी से मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा:

आप'ने मुझे क्यों 10.00 बजे आ'ने को बोला था? क्या कोई काम था आप को? मैने उस'की आँखों में देखा और बोला, रेव्ह पार्टी म्हणजे काय अली के टच करते ही सादिया ने अपनी टांगें थोड़ी और ओपन कर दी अब अली का हाथ और अंदर आ गया और फिंगर्स डाइरेक्ट चूत पे थीं और वो अपनी अम्मी की चूत के साथ खेलने लगा उसकी फिंगर्स सादिया की चूत के लिप्स मैं थीं.

एक्स एक्स एक्स वीडियो चूत वाली

  1. शायद इसलिए मुझसे मेरे कानों में मुझे चूमते हुए कहा- मैं तुम्हें कोई तकलीफ नहीं दूँगा, क्या तुम्हें अभी तक मुझसे कोई परेशानी हुई !
  2. ‘अपना 10 इंच का मूसल मेरी गाण्ड में डालने के बाद पूछ रहा है दर्द तो नहीं हो रहा। लगता है एक महीने तक ठीक से चल भी नहीं पाऊँगी।’ भूमिका सेक्सी व्हिडीओ
  3. शास...तुम कितने भोली हो मुस्कान....तुम नही जानती....वो तुम्हे बस मैं रखने के लिए तुम्हे किशी से भी चुदवा सकती है.....अगर तूने अब भी मेरी बात नही मानी तो बाद मैं पछताॉगी........ फिर हमारा बाजार और पार्क जाने का प्रोग्राम बना। हम पार्क गये। वहाँ रूबी ने मेरे साथ खूब खेला। मामी को जब भी मौका मिलता, पूछती- तुमने कहाँ से सीखा। कितनी लड़कियों को अब तक चोद चुके हो…
  4. रेव्ह पार्टी म्हणजे काय...पिरी बोली- कुछ ज्यादा ही मस्ती में चुटकी में लेकर मसलो, दाँत लगाकर काटो, मैं कुछ नहीं कहूँगी… उधर लण्ड बुर में अंदर-बाहर होता ही रहा। फिर कहा- तुमने मुझे कितनी बार चोदा, तुम्हें कैसा लगा… अरूण ने तुरन्‍त ही अपने मिलनसार व्‍यवहार का परिचय देते हुए कहा, तब तो तुम थक गई होंगी तुम लेट जाओ, मैं तुम्‍हारी मालिश कर देता हूँ ताकि तुम्‍हारी थकान मिट जाये और अब आगे कुछ नहीं करेंगे।
  5. घर आते ही शशि थकान के कारण तुरन्त सोने की तैयारी करने लगी। पर मेरी आँखों से तो नींद कोसों दूर थी मुझे तो आज कुछ करना था मूवी के बीच में मेरा ऐसा मूड बन चुका था कि अब रुकना मुश्किल था। तब उसने कहा- जरूरत नहीं… बाल बहुत सुन्दर लग रहे, मुझे बालों वाली चूत अच्छी लगती है। मेरे ख्याल से चूत में बाल होने से लगता है कि कोई जवान औरत है।

सेक्सी वीडियो फिल्म हिंदी में

उनके चेहरे पर जरा सी भी थकान महसूस नहीं हो रही थी, उनको देखकर मुझे भी कुछ फूर्ति आई। मैं भी बाथरूम में जाकर अच्‍छी तरह धो पौंछ कर बाहर आई। घड़ी में देखा 3.15 बजे थे मैंने अरूण को आराम करने को कहा।

हालाँकि मैं उनकी पत्नी हू फिर भी वो मुझे कुछ काम करने नही देते और हर वक़्त बस उनकी जिस्म की प्यास को बुझाते रहते है, ये आख़िर मे जिस्म की प्यास क्या है????????????? अरूण की इस बात ने मेरे अन्‍दर भी शक्ति संचार किया, मेरी थकान भी मिटने लगी। मैंने फ्रिज में से एक सेब निकाला, चाकू लेकर उनके पास ही बैठकर काटने लगी।

रेव्ह पार्टी म्हणजे काय,‘लेकिन मेरे राजा.. औरत ये तो नहीं कह सकती कि आओ मुझे चोदो। पहल तो मर्द को ही करनी पड़ती है और फिर मैं तो तेरी आंटी हूँ।’

अब प्रिया एकदम से पल्टी और मेरे जिस्म से खेलने लगी, वो मेरे निप्पल को अपने दांतों से काट रही थी तो कभी उसके ऊपर अपनी जीभ चला रही थी। धीरे-धीरे वो अपनी जीभ को मेरे पूरे जिस्म पर चलाती जा रही थी, वो नाभि तक पहुंच चुकी थी, मेरे दोनों पैरों के एड़ी कूल्हों से टच करने लगी।

अब मैंने लंड को बिना बाहर निकाले आंटी की फटी हुई कच्छी को पूरी तरह फाड़ कर उनके जिस्म से अलग कर दिया और छल्ले की तरह कमर से लटकते हुए पेटीकोट को उतार दिया।सनी लियोन की सेक्सी वीडियो दिखाइए

कुछ देर बाद मेरी चूत का दर्द मज़े में बदल गया। अब मेरी चूत में वही खुजली फिर से होने लगी थी, ऐसा लग रहा था पापा का लौड़ा आगे तक क्यों नहीं जा रहा। तुम साली बीवियाँ जब डोर होती हो तो ऐसी ही बातें कर'ती हो. यह मैं नॉर्मल होने के लियेMअधु को भी सुना रहा था.

अब मैंने आंटी के चूतड़ों को पकड़ कर बहुत ज़बरदस्त धक्का लगाया। पूरा 10 इन्च का लवड़ा आंटी की चूत में जड़ तक समा गया।

मैं तो उनको जाते ही देखती रही। उन्‍होंने बाहर निकलकर एक बार चारों तरफ देखा, फिर पीछे मुड़कर मेरी तरफ देखा और हाथ से बॉय का इशारा किया बस वो निकल गये… मैं देखती रही… अरूण चले गये।,रेव्ह पार्टी म्हणजे काय मेरा लौड़ा अंडरवियर को फाड़ने की कोशिश कर रहा था। आंटी मेरे लौड़े को अंडरवियर के ऊपर से सहलाते हुए कहा- राज, ये महाशय क्यों नाराज़ हो रहे हैं?

News