hdसेक्सी

సెక్స్ మెడిసిన్

సెక్స్ మెడిసిన్, उसका लिंग मेरी योनि में घुसता चला गया। और मुझे हल्की सा दर्द हुआ, मैं सिसक गई। यह देख कर अमर ने मुझे चूम लिया। राजा साहब की धड़कन तेज़ हो गयी थी.काम पूरा कर मेनका उठी & उनके गालों पे बची शेव पूरी करने लगी,कल रात प्यार करते वक़्त आपके इन बालों हमे बहुत तंग किया.,उसने एक हाथ से उनके लंड के पास की जगह को छुते हुए कहा.राजा साहब तो जोश से पागल हो गये.

अमर को मेरा इशारा समझ आ गया था, उन्होंने पहले तो मेरी योनि के बालों को सहलाया फिर हाथ से योनि को छूकर कुछ देर तक सहलाया। केअरटेकर है.पर हमने उसे 2 दिन की छुट्टी दे दी है.अभी यहा हम दोनो के अलावा कोई भी नही है.राजा साहब उसे बाहों मे पकड़ने के लिए आगे बढ़े तो मेनका छितक कर दूर हो गयी.,पहले कुच्छ खा लें.

उसके लंड से गरम पानी निकल कर मेरे पेट की ओर जाता हुआ सॉफ महसूस हो रहा था…..थोड़ी देर वैसे ही वो मेरी चूत में लंड डाले खड़ा रहा……और फिर उसने अपने लंड को बाहर निकाल लाया, और फिर मेरी गान्ड पर एक जोरदार झापड़ मारते हुए बोला उठ साली हो गया चल बेड पर चल थोड़ी देर बाद फिर से तेरी चूत की ठुकाइ करता हूँ…… సెక్స్ మెడిసిన్ फिकर मत करो इतनी सुबह कोई नहीं आयेगा ! और फ़िर मैंने बाहर का दरवाज़ा अच्छे से बंद कर दिया है इसलिए अगर कोई आयेगा तो उसे वैसे ही दरवाजे से वापस जाना होगा। कहते हुए अब मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों पर एक लंबा चुम्बन लिया..

काजल रघवानी का सेक्सी वीडियो

  1. अमर से तो मैं दूर भागने लगी थी, वो मेरे साथ सहवास करना चाहते तो थे, पर मैं कोई न कोई बहाना बना लेती थी, पर ये सब ज्यादा दिन नहीं चल सका।
  2. मैं समझ गई कि अमर अब पूरी तरह से यैयार हो चुका है मुझे यौनानन्द के सागर में गोते लगवाने के लिए, मैं भी अपनी कमर को उसके साथ हिला कर उसका साथ देने लगी। रिया चक्रवर्ती - फोटो
  3. बड़ा मजा आ रहा था, हम दोनों ही पागल हो रहे थे और आवाजें निकल रही थी, वो तो ए सी की वजह से रूम बंद था वर्ना आवाज नीचे चली जाती। उसने कहा- आज कोई छुट्टी का दिन नहीं है, कोई यहाँ नहीं आ सकता और ऐसी जगह में कोई देख भी नहीं सकता। यह तो पूरा जंगल है।
  4. సెక్స్ మెడిసిన్...एक्सक्यूस मी,सर.,आवाज़ सुन कर जैसे ही वो घुमा 1 मज़बूत हाथ ने उसकी नाक पे 1 कपड़ा दबा दिया.वो उस आदमी को परे धकेलने लगा पर उसे लग रहा था कि जैसे उसके बदन मे ताकता ही नही है,फिर भी उसने अपना पूरा ज़ोर लगा कर उस आदमी को धकेल दिया. कंचन ने आगे बढ़कर चिंटू को अपनी बाहों में समेट लिया. उसके गले लगते ही चिंटू फफक-कर रो पड़ा. कंचन की भी रुलाई फुट पड़ी.
  5. राजा साहब ने अपने हाथ पीच्चे ले जाकर मेनका के ब्लाउस के हुक खोल दिए & उसे नीचे उतार दिया.मेनका अब बिल्कुल गरम हो गयी थी,जब राजा साहब उसके ब्रा को उतारने लगे तो उसने हाथ नीचे कर अपनी चूचियाँ नंगी करने मे उनकी पूरी मदद की.अब दोनो पूरे नगे 1 दूसरे के जिस्मो से खेल रहे थे. सुगना की बात सुनकर चिंटू और शांता की हँसी छूट गयी. कंचन ने चिंटू को इस बात पर हल्की सी चपत लगाई और कल्लू को देखने लगी.

सेक्स सेक्स व्हिडिओ सेक्स व्हिडिओ

वो मेरे लिए दो नाईट ड्रेस लाई थी, पांच छह ड्रेस वो अपनी भी लाई थी। इसके अलावा भी वो शॉर्ट्स, बरमूडा और पता नहीं क्या क्या ले आई थी जिन्हें केवल कमरे में ही पहना जा सकता था।

ऐसा नही है कि राजपुरा मे राजा साहब का एकच्छात्रा राज्य है.जब्बार सिंग नाम का एक ठाकुर बहुत दिनों से उनसे उलझता आ रहा है.लोग तो कहते हैं केयूधवीर की मौत मे उसी का हाथ था.जब्बार राजा साहब के दबाव को ख़तम कर खुद राजपुरा का बेताज बादशाह बनाना चाहता है.पर राजा साहब ने अभी तक उसके मन की होने नही दी है. दीवान जी, किसी और ने ये बात कही होती तो बात मेरी समझ में आती. किंतु आप तो....आप तो इस षड्यंत्र के रचयिता हैं. क्या आप भी भूल गये? या फिर ठाकुर साहब के सामने सच बोलने से घबरा रहे हैं? सुगना दीवान जी पर व्यंग भरी दृष्टि डालते हुए कहा.

సెక్స్ మెడిసిన్,फिर उसने अपने लिंग को मेरी योनि की छेद पर टिका कर दोनों हाथों से मेरे दोनों चूतड़ों को कस कर पकड़ा और मेरे होंठों पर अपने होंठ रखते हुए मुझे चूम लिया।

विनय ने अपने खाली प्लेट्स उठाई और किचन में चला गया….किरण ने किचन मे काम करते हुए, ही विनय और अभी की बातें सुन ली थी….मामी वो मैं मासी के घर जाउ…..मौसा जी नये गेम लेकर आए है….

बस्ती में दो लोग ऐसे थे जिनका कहा कल्लू कभी नही ठुकराता था. एक तो मुखिया धनपत राई, जो उसे मज़दूरी देता था. तो दूसरा सुगना, सुगना की बात वो इसलिए नही टालता था क्योंकि वो कंचन का पिता था.इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड

उसने पेपर्स लेकर नंगी मेनका को बाहों मे भर लिया & उसे कुच्छ बहुत धीमी आवाज़ मे समझाने लगा जिसे मेनका पूरे ध्यान से सुनती रही.इसके बाद दोनो करीब 5 मिनिट तक 1 दूसरे को सहलाते हुए चूमते रहे.फिर वो अजनबी जैसे आया था वैसे ही चला गया. ये उनके लिए कोई नयी बात नही थी. रातों को जागना और शराब पी कर अपनी किस्मत को कोसना उनका मुक़द्दर बन गया था.

बस फिर देर किस बात की थी। मैं झट से तैयार हो गई। मैंने टॉप स्कर्ट और ठण्ड से बचने के लिए जैकेट पहन लिया। मैंने मामा को अपनी एक्टिवा पर बैठाया और निकल पड़े घूमने।

तो फिर हमारा भी अंतिम निर्णय सुन लो मोहन, अगर तुमने हवेली के बाहर कदम रखने की कोशिश भी की, तो हम तुम्हे गोली मार देंगे. ठाकुर साहब ये कहते हुए दीवार पर टाँग रखी बंदूक की तरफ बढ़ गये. उन्होने बंदूक उतारी और मोहन बाबू पर तान दी.,సెక్స్ మెడిసిన్ कुछ पलों के बाद मेरा बदन ढीला पड़ने लगा और वो धक्के रुक-रुक कर लगाने लगे। मैं समझ गई कि वो थक चुके हैं।

News