रानी चटर्जी की सेक्सी पिक्चर

की लड़की की चुदाई

की लड़की की चुदाई, मुझे भैया की बहुत याद आ रही थी ..और मम्मी की भी ...मैने सोच लिया था आज शाम को पापा से घर वापस जाने को बोलूँगी ...मुझ से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था ...भैया के लंड के बिना मेरी चूत बिल्कुल खाली खाली सी लगती थी ... मैंने सिर से लेकर पाँव तक बाजी के जिस्म को देखा और हैरतजदा सी आवाज़ में पूछा- बाजीयईई.. मुझसे छुप रही हो?

जब मैंने 4-5 बार ऐसा किया तो उनकी बर्दाश्त जवाब दे गई.. और इस बार जब फिर मैं ज़ुबान वहाँ पर टच किए बगैर हटने लगा.. तो बाजी ने गुस्सैल सी आवाज़ में सिसकारी भरी और अपने दोनों हाथों से मेरे सिर की पुश्त से बालों और गर्दन को पकड़ कर मेरा मुँह अपनी निप्पल्स की तरफ दबाने लगीं। मैंने बाजी के पीछे आते हुए कहा- कुछ नहीं होता यार बाजी.. रिलैक्स.. मैं ये पूरा थोड़ी ना अन्दर घुसाने लगूंगा..

मैने जल्दी से डिन्नर किया ...पापा दिन भर के काम की थकान और शाम की चुदाई से शायद थक गये थे ..वे डिन्नर लेने के बाद पलंग पर लेटे लेटे कोई मॅगज़ीन पढ़ रहे थे और मैं कम्प्यूटर ऑन कर भैया और पायल आंटी की चुदाई का मज़ा लेने बैठ गयी ..अपनी पैंटी उतार कर... की लड़की की चुदाई अब संगीता तो जानती ही थी की पृथ्वी को क्या परेशानी है वो बस मुस्कुराई बोली- कोई बात नहीं हमारे पास सो जाओ

प्रतिज्ञा की सेक्सी वीडियो

  1. तकरीबन 2 मिनट तक मैं और बाजी एक-दूसरे के होंठों और ज़ुबान को चूसते रहे.. फिर बाजी मेरे निचले होंठ को चूस कर खींचते हुए मुझसे अलग हुईं और अपने होंठों पर ज़ुबान फेर कर बोलीं- वसीम.. बस अब छोड़ो.. कोई आ ना जाए।
  2. लेकिन आईने में ऐसा ही लग रहा था.. जैसे मैं अपना लण्ड अपनी बहन की चूत में डाले हुए अन्दर-बाहर कर रहा होऊँ.. कामसूत्र हिंदी पिक्चर
  3. मनोहर पागलो की तरह सुधा के दूध को मसलता रहा और उसके गुदाज गदराए बदन को तबीयत से मसलता रहा कुछ देर बाद मनोहर ने कहा सुधा जाओ सामने की आल्मिरा से नारियल का तेल लेकर आओ, सुधा उठी और नंगी अपनी गुदाज गदराई गान्ड मटकाते हुए सामने जाने लगी और मनोहर उसकी नंगी गान्ड की थिरकन को देख कर अपना लंड मसल्ने लगा अयाया ...हाँ मेरे राजा ...हाँ ऐसे ही चूसो ना ..और ज़ोर से ..चूसो पूरा चूस लो ना ..मैं तो तुम्हारे अंदर समा जाना चाहती हूँ ....ऊऊओ मम्मी भैया की गोद में थी ..टाँगें फैलाए ..चूत फैलाए ...
  4. की लड़की की चुदाई...देख दामिनी ....क्यूँ मुसीबत मोल ले रही है ...मैं जानता हूँ बहाना ..मुझे भी बहुत मज़ा आएगा ...पर अपने मज़े के लिए मैं तुम्हें इतना दर्द कैसे दे सकता हूँ ... कैसे मेरी बहना..?? बाजी ने ज़ुबैर को हैरत से देखा और मेरी तरफ इशारा करके कहा- ये तो है ही खबीस.. तुम्हें किस पागल कुत्ते ने काटा है.. अम्मी बाहर आ गईं तो पता लग जाएगा सबको।
  5. बाजी ने ये कह कर एकदम अपने कूल्हों को सोफे पर गिराया और अपने दोनों हाथों से मेरे हाथों को पकड़ते हुए एक झटके से अपने उभारों से दूर कर दिया और मेरे सीने पर अपने पाँव रखते हुए मुझे धक्का दिया। मैं बाजी की कमर पर हाथ रख कर उनके दूधों को अपने सीने पर दबाने लगा। बाजी जब अपनी चूत रगड़ कर ऊपर होतीं.. तो मेरा लण्ड भी ऊपर को उठता था.. पर मुझे नहीं पता था कि बाजी ऐसे भी कर सकतीं हैं।

सविता भाभी की चुदाई कार्टून

हम दोनों इसी तरह एक दूसरे पर अपनी टाँगें रखे आमने सामने लेटे रहे काफ़ी देर ..एक दूसरे को निहारते हुए ..मैं तो बस पापा की हरकतों से हैरान थी ....आज उनका हाव भाव बिल्कुल एक दूल्हे का था . एक जवान का ...वोई छेड़ छाड़ , वोई चुलबुलापन वोई मस्ती ..और मैं भी उनके इस रूप का भरपूर मज़ा ले रही थी .

हम दोनों ऐसे ही पड़े थे , एक दूसरे को निहार रहे थे ..एक दूसरे के बदन से खेल रहे थे ...एक ऐसी दुनिया में खोए थे ..जहाँ सिर्फ़ हमारे सिवा और कोई नहीं था ..अगर कोई और था तो हमारा असीम प्यार... मैंने नाश्ता खत्म किया ही था कि बाजी ने पौधों को पानी देने वाली बाल्टी उठाई और अम्मी को कुछ कहते हुए बाहर गैराज में रखे गमलों को पानी लगाने के लिए चली गईं।

की लड़की की चुदाई,को साइलेंट मोड पर करके और ऑडियो रेकॉर्डिंग ऑन कर दी और मोबाइल को वही रूम पर रख कर बाहर आ गया, करीब 1 घंटे बाद

तो ये सलिल था हमारी लिस्ट में तीसरा .... कभी कभी मैं जब मूड में रहती तो उस दिन क्लास में मैं सलिल पीछे की बेंच पर जा कर बैठ जाते ..और सलिल को मालूम पड जाता के अब क्या होनेवाला है उसके साथ .

मैंने अब्बू को कमरे में दाखिल हो कर दरवाज़ा बंद करते हुए देखा तो बाजी के नज़दीक़ होते हुए सरगोशी और शरारत से कहा- अब तो मेरी बहना जी दिन रात गंदी फ़िल्में, पोर्न मूवीज़ देखेंगी और वो भी मज़े से अपने बिस्तर में लेट कर..हिंदी में ब्लू पिक्चर वीडियो

मैंने यह कह कर अपने हाथ पीछे कर लिए और अपनी नजरें बाजी की टाँगों के बीच में चिपका कर पजामा नीचे होने का इन्तजार करने लगा। हनी के नंगे बाज़ू और नंगी पिण्डलियाँ.. बालों से बिल्कुल साफ और बाजी की ही तरह शफ़फ़ थीं.. बस ये था कि उसका रंग थोड़ा दबता हुआ था या फिर ये कहना ज्यादा मुनासिब है कि बाजी के मुक़ाबले में वो साँवली नज़र आती थी।

लेकिन वो बड़ी सी चादर भी बाजी के सीने के बड़े-बड़े उभारों को मुकम्मल तौर पर छुपा लेने में नाकाम थी। जब वो मेरे सामने पहुँचीं और मेरी नजरों से उनकी नज़र मिलीं तो मेरी नज़रें फ़ौरन झुक गईं..

सब से पहले भैया ने आँखें खोलीं , और कहा दामिनी ..मेरी प्यारी बहना ...हम दोनों अपने मम्मी पापा से इतना प्यार क्यूँ करते हैं..?,की लड़की की चुदाई ज़ुबैर की शक्ल किसी ऐसे बिल्ली के बच्चे जैसी हो रही थी कि जिसको उसकी माँ ने दूध पिलाने से मना कर दिया हो.. उसके मुँह से कोई आवाज़ भी नहीं निकल रही थी।

News