धमाकेदार सेक्सी फिल्म

షార్ట్ ఫిలిమ్స్

షార్ట్ ఫిలిమ్స్, अजय जाके माँ के गले लग जाता हैं, पर इस बार कविता को कुछ होने लगा अचानक से, वोह और कस्स के अजय को बाहों में लेती हैं कि तभी अजय अलग होता हैं और अपने कमरे में चल पड़ते हैं l पर जब मेरी झपकी टूटी तो मैंने देखा वो सामने दूसरी चारपाई पर बैठी है और मुझे ही देख रही है मैं उनींदी आँखों से उसके फूल से चेहरे को देखा हलके केसरिया सूट-सलवार में क्या गजब लग रही थी वो देख कर मेरी नींद झट से गायब हो गई

मेरी बात सुन कर मम्मी ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को सहलाते हुए बोली, ज़्यादा फैलने की कोशिश मत करो, जो कर रही हूँ इतना भी बहुत है, हाँ अगर तू बेटा नही होता तो तेरे खूबसूरत लंड को खूब चुस्ती और दिन रात तुझ से चुदवाती, अब कल तक सबर करले फिर अपनी बहन अब नज़ारा मेरे सामने था। मेरी गोरी और चिकनी टाँगें खुली हुई थी और सामने था लंबा तगड़ा हर्षिल अपने 7 इंच के लन्ड को सहलाते हुए।

ooof sh...sh...shahab do (2) ajnabi mardon ke saamne nanga hone ka soch kar hi mera sharam se bura haal hai, mmmmain kaise unka saamna karungi, najma ke chehre ko dekhte hi samajh gaya ke wo bahut sharmaa rahi hai. షార్ట్ ఫిలిమ్స్ और मै ज्योति के एक चूची को मुंह में लेकर उसे चूसता हुआ दूसरे स्तन को दबाने लग गया। वो मुझे अपने छाती से लगाकर दूध पीला रही थी, और मेरा लंड कच्छा में टाईट हो रहा था। ज्योति की सिस्कान निकलते हुए बोली।

भोजपुरी में चोदी चोदा

  1. shahji ki baat sun kar be-ekhtiyaar hamari taraf dekha our unka chehra laal hogaya our wo machalate hue khud ko chodane ki koshish karte hue haanpti aawaaz me kehne lagin, oooofff ch….ch…choro mu…mu..mujhe our fauran yahaan se chale jaaoo.
  2. ऊऊहह आअहह श…..श…शाब ऊऊओफ़ आहह ज़्ज़्ज़ूओर से ज़्ज़्ज़ूओर से ककक्काअरर्र्रूऊ ऊऊफफफफ्फ़ ब्ब्बाहुउउत म्‍म्म्ममाज़्ज़्ज़ा लोमड़ी और अंगूर की कहानी in english
  3. shahji ki baat sun kar main hairat se uchhal pada our sochne laga ke kia shahji ka dimaag kharab hogaya hai jo wo mammi se kah raha hai ke kisi bhi tarah najma ko use chudawa de jabke woo mahinoon se najma ko chod raha hai. वो- कल हम गुस्से में थे पर फिर हमने सोचा और हम जानते है कि तुम चाहे जो करो पर हमारे विश्वास को ठेस नहीं पहुँचोगे
  4. షార్ట్ ఫిలిమ్స్...मगर शहाब क्यूँ, पैसे हम दें और ये साला गान्डु पहले चोदे, यह बिल्कुल ग़लत है वैसे भी ये साली तो इसकी बेहन है यह जब चाहे इसे चोद सकता है. शरीफ बोल पड़ा. राज, तुम्हें अच्छी तरह सोचना चाहिए कि क्या करना है। कुछ अच्छे दोस्तों से राय ले लो...मेरी राय ये है कि एक बार घर पर बता दो, क्या पता मम्मी मान जाएँ तुम्हारे।
  5. तेरे बाद तेरी बेहन को शरीफ और ज़ाहिद चोदेन्गे उसके बाद ही मेरा नंबर आएगा, और इधर मेरा हाल बहुत बुरा है मेरा लंड पागल हो रहा है इस लिए तू अब नजमा को चोदेगा और मैं पीछे से तेरी गान्ड मार कर अपने लंड को ठंडा कर लूँगा, जब मेरा नंबर इसे चोदने का आएगा तो उस वक़्त तक मेरा लंड फिर से तैयार हो जाएगा, नजमा को यक़ीनन बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि वो मचल रही थी और सिसकियाँ ले ले कर बडबडा रही थी, हूऊ हूओ हा ऊऊओफफफ्फ़ ब्ब्ब्बाहुत म्‍म्म्मज़ा आ रहा है, ऊओफ़ है श…श..शाहजी ऊओफ़ हां हाँ इसी तरह मेरी चूत के दाने को ज़ोर ज़ोर से चूसो.

सेक्स करो सेक्स करो सेक्स

ज्योति के नग्न खूबसूरत जिस्म पर ओंधकर उसके चूची को थामा और मुंह में लेकर चूसने लग गया। तो वो मेरे बाल को सहलाने लगी ,ज्योति दीदी की बूब्स टाईट और छोटी थी। मै उनका स्तन चूसता हुआ दूसरा स्तन दबाने लग गया, वो अपने दोनो जांघ कों आपस में रगड़ते हुए सिसक करते हुए बोली।

हूँ मैने नजमा के होंठो को चूमते हुए कहा. मेरी बात सुन कर नजमा के चेहरे पर इतमीनान आ गया और वो मुझ से लिपटती हुई बोली तुम बहुत चालाक हो, आपने कभी अपनी ज़िंदगी में परिवार, रिश्तो नातो को कभी तवज्जो नहीं दी आपने केवल लोगो को खिलोने से ज्यादा इज्जत नहीं दी दिल किया तो खेला दिल किया तो नया खिलौना ले लिया ,

షార్ట్ ఫిలిమ్స్,फिकर क्यूँ करती है तेरी बेटी को चोद लिया है अब तेरा ही नंबर है, और तू तो देख ही रही है कि अभी तो चुदाई ख़तम की है अब दूसरी चुदाई के लिए लंड को तैयार होने मे आधा घंटा तो लग ही जाएगा इसलिए थोड़ा सबर कर. शाहजी यह कह कर बियर की बॉटल को मुँह से

उसकी आहे बढ़ती जा रही थी पल पल वो पागल हो रही थी और जब मुझे लगा की बस अब ये झड़ने के पास है तो मैंने उसे बिस्तर पर खींच लिया और अपने लण्ड को चूत पर टिका दिया

रात काफी हो चुकी थी। आँखों से नींद तो पिछले कई दिनों से गायब थी...लेकिन जब से शादी के लिए हाँ की थी, तब से बेचैनी बहुत बढ़ गई थी।सट्टा किंग ऑनलाइन नंबर

नजमा बड़े प्यार से मेरे गाल को सहलाती हुए कहने लगी, उदास क्यूँ होते हो मैं कराची से बाहर तो नही जा रही हूँ, महीने मे एक दो दिन पर अगले ही पल मेरा कलेजा किसी आशंका से भर गया मैंने सोचा की कही जीजी पर तो ये सोने की परत नहीं चढ़ा दी गयी हो , शायद पूजा ने मेरे मन की बात समझ ली और उसने प्रतिमा को कुछ जगह से बजाया सा और बोली- बस मूर्ति ही है ,खोखली है

ना जाने कब नींद ने मुझे अपनी पनाह में लिया पर जब मैं जागा तो मेरे ऊपर एक कम्बल पड़ा था और कुछ दूरी पर पूजा बैठी थी

बिना उसकी तरफ देखे मैं वहां से चल पड़ा गुस्से से धधकता हुआ आज मैंने सोच लिया था की इस कलंक का काम तमाम कर दिया जाये आज कुछ ऐसा होगा की आजके बाद इस गांव में कोई माई का लाल परायी औरत से जबर्दस्ती ना कर सके,షార్ట్ ఫిలిమ్స్ मैंने भी कामिनी की बात को नहीं टाला और एक रात हमारी एक दूसरे की बाहों में कटी अगले दिन मैं वापिस हुआ कुछ नयी बातें पता चली पर सब और उलझ गया था और जवाब कुछ नहीं था मुझे लग रहा था की वसीयत में जो शर्त थी वो इसलिए भी हो सकती थी की अर्जुन ठाकुर की प्रॉपर्टी हमारे पास जाये

News