मराठी डायलॉग डाऊनलोड

इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018

इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018, मैं नाज़ी के सामने जाके खड़ा हो गया ऑर उसका एक हाथ खुद ही पकड़ कर अपने गाल पर मारने लगा जिसे नाज़ी ने दूसरे हाथ से पकड़ लिया ऑर ना मे सिर हिलाया फिर मेरा मुँह एक हाथ से पकड़कर मेरी गाल को चूम लिया लेकिन बहुत हल्के से. आरती साहिल के कंधे पर हाथ रख कर बाइक पर बैठी थी ..साहिल के दिल मे बेहद इतमीनान था ..आज उसका दिल बहुत खुस था.. वो धीरे धीरे बाइक चला रा था और आरती से बाते भी कर रहा था . अब उसे इस बात की भी ख़ुसी थी कि वो आरती के साथ ही देल्ही जाएगा .

इसे फ़ौरन आइसी यू मे ले चलोराहुल उनके पीछे भागता है , आरती बौखलाई सी उसके पीछे जाती है,किंतु दोनो को गेट पर ही रोक देते है . ये सुनकर दोनो मेरे पास आके खड़ी हो गई ऑर सवालिया नज़रों से मुझे देखने लगी. मैने दोनो को एक नज़र देखा ऑर दोनो का हाथ पकड़कर अपने साथ उनको भी बेड पर अपनी दोनो तरफ बिठा लिया.

रूबी : (मेरे सामने वाली कुर्सी पर बैठते हुए) नियत तो ठीक है जनाब की... आज दिन मे भी बड़ा रोमेंटिक मूड बना हुआ है. इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018 सुहानी--सर में जानती हूँ आप किसी का बुरा नही कर सकते....लेकिन अगर आप किसी का अच्छा करने की कोशिश कर रहे है तो फिर सोचना कैसा.....आप जो भी करोगे वो अच्छा ही होगा....सोचना बंद करो और अपने काम को अंजाम तक पहुचाओ....

आम्रपाली के नंगे फोटो

  1. मम्मी--ज़रूर में भी यही सोच रही हूँ....एक फार्म हाउस कुछ इस तरह से बनाया जाए कि वो किसी छोटे जंगल से कम ना हो...
  2. भाभी: ह्म्म्म खुश? अब मैं जाती हूँ... कल मिलते है... अभी मुझे भी जड़ना है समीर के भैया आये उस से पहले... मौसी की चुदाई वीडियो
  3. हा हा हा... पहले ब्रश तो अच्छे से कर लो, मुझे पता था के तू पहले पढ़ेगा... चल तेरी मर्जी... अच्छे से मुह धो के... अच्छे से नहा लेना... और फिर मेरे रूम मैं आ जाना... दोनों एकदम गर्म हो गई थीं प्रिया चुदी हुई नहीं थी मगर कहानी से उसने काफ़ी कुछ सीखा हुआ था.. वो मम्मे चूसने के साथ-साथ दीपाली की चूत भी रगड़ रही थी। काफ़ी देर तक दोनों एक-दूसरे के साथ मस्ती करती रहीं।
  4. इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018...मैं : सबसे पहले ये पता करो कि उसके पास माल आया कहाँ से है जहाँ तक मुझे पता है अफ़ीम के सारे खेत तो हमारे क़ब्ज़े मे है ओर दूसरा कौन है जो उसको माल दे रहा है. भिखारी को समझ आ गया वो उल्टा हो गया.. यानी दीपाली सीधी ही लेटी रही और उसने ऊपर आकर उसके मुँह में लौड़ा डाल दिया और खुद चूत चाटने लगा।
  5. विकास- ले मेरी जान तेरे लिए तो जान हाजिर है.. आह्ह.. ऐसे मज़ा नहीं आएगा. खुल कर चुदवा ... आह्ह.. ले जान, उहह उहह पूरा ले आह्ह.. ले.. पेग लगते हुए ठाकुर प्राण बोल उठा ,लेकिन विक्रांत बस अवाक उसके चहरे को देखने लगा जैसे उसे यकीन ही नही हो रहा था की उसे कोई ऐसा कुछ कहेगा …

ব্লু সেক্সি ব্লু ফিল্ম

हीना : अर्रे ये नही कोई ओर कपड़ा दो इस कपड़े से तुम अपना मुँह सॉफ करते हो मैं इससे अपने पैर थोड़ी ना सॉफ करूँगी

नाज़ी : कुछ नही वो आजकल हम जैसे गाँव वाले भी शहर वालो की तरह मोमबत्ती जला के खाना खा सकते हैं जैसे फ़िल्मो मे दिखाते हैं. मैने अपनी ननद से कहा अरे कुछ पानी वानी भी पिलाओगी बेचारे को या, छेडती ही रहेगी. वो हंस के बोली अब भाभी इस की चिंता मेरे उपर छोड़ दीजिये और ग्लास दिखाते हुये कहा, देखिये इस साले के लिये खास पानी है. जब मेरे भाई ने हाथ बढ़ाया तो उसने हंस के ग्लास का सारा पानी, जो गाढा लाल रंग था, उसके उपर उडेल दिया.

इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018,नेहा ने वो दरवाजा खोला एक अंजाने डर से काँपते अपने हाथो से....अंदर से आती गंदी बदबू हमारे नथुनो मे समा रही थी.....नेहा ने जैसे ही वो दरवाजा खोला अंदर का मंज़र देख कर मेरी रूह तक काँप गयी.....

दीपाली- आहह.. उई आराम से, मेरे राजा.. आपका लौड़ा कब से खड़ा है.. लाओ मुझे चूसने दो.. आहह.. आप बाद में मेरे मज़े ले लेना आहह.. पहले लौड़ा चूसने दो ना.. मैं कब से तरस रही हूँ आहह..

कामली--हाँ...हाँ...क्यो नही बस 2 मिनिट में रसम पूरी हो जाएगी....लेकिन जनाब आपने शमा को गोद में क्यो उठा रखा है....এক্স এক্স বেঙ্গলি ডট কম

उसके बाद में तुरंत उठ कर कॅंप से बाहर निकल जाता हूँ.....बाहर ही नीरा भी मुझे मेरे कॅंप की तरफ धीरे धीरे लंगड़ा कर चलती हुई नज़र आ जाती है.... मैं : दोनो एक दम चुप हो जाओ अब कोई नही बोलेगा नही तो ना मैं तुम्हारे साथ जाउन्गा ना तुम्हारे समझी..... (दोनो की तरफ उंगली करते हुए)

मैं बिना कुछ बोले उसको देखता रहा ऑर उसके होंठ चूमकर अपना लंड फिर से निशाने पर रखा ऑर हल्का सा झटका दिया अब लंड टोपी से थोड़ा ऑर आगे तक बिना कोई रुकावट अंदर चला गया लेकिन रिज़वाना को अभी भी दर्द हो रहा था.

तुम फिक्र मत करो अजय हमारे पास एक दूसरा प्लान है तुम्हे छुड़ाने का .तुम यंहा से बाहर निकल जाओ और चम्पा के साथ नई जिंदगी बिताओ बस ...ठाकुर और मोंगरा को अपनी जंग खुद ही लड़ने दो …,इंदुरीकर महाराज कीर्तन 2018 भिखारी नहा कर एकदम ताजा दम हो गया.. उसके जिस्म में एक अलग ही चमक आ गई। उसका रंग साफ था और लौड़ा भी किसी दूध की कुल्फी जैसा सफेद था। भिखारी ने तौलिए से बदन साफ किया और उसे अपने जिस्म पर लपेट लिया।

News