राजस्थानी सेक्सी फिल्म वीडियो में

वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi

वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi, देवर- भूल गये आप? रोज जब नहाती हैं तो मैं दरवाजे की झिरी से आपको रोज नहाते हुए देखता था। जब आप अपनी चूचियों के ऊपर, दोनों जांघों के बीच में साबुन लगाकर रगड़-रगड़ के नहाती थी। जल्दी ही हम खेतो मे पहुच गये यहाँ पहुच कर मेने मम्मी की चूत की धुअदार चुदाई की ऑर फिर हम आराम करने लग गये

हमे लगा चाचा रुक जाएगा,लेकिन उन्होने अपना लंड घुसाना जारी रखा ऑर पूरा कावेरी की छोटी सी गान्ड मे घुसा दिया फिर वो मेरी चूत पर आ गया…..और किसी भूखे जानवर की तरह मेरी चूत को फांकों के साथ मूह में भर कर चूसने लगा…..

हय तोह फिर मुझे भी............हाए.......,....उउंह........मुझे भी खुश करदे बेटा...... सलोनी हिचकियां लेती बोलती है. वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi कामरू- अरे... नव्वा की दुकान थी, पहले निचले हिस्से में। दुकान मलिक ने कहा की यहाँ पे मैं अपनी किराना दुकान खोलूंगा तुम ऊपर माले में दुकान खोल लो। नव्वा ने ऊपर दुकान खोल लिया। नीचे एक पोस्टर लगवा दिया ताकी लोगों को मालूम पड़े की दुकान ऊपर माले में है।

ववव क्सक्सक्स हिंदी

  1. कमलावती- मजा तो आता है। और संग में तकलीफ भी होती है... खास करके उस दिन जिस दिन ये मुझे दिन में एक बार चोद लेते हैं।
  2. अमित: वो मुझे ज़रूरी काम से जाना है थोड़ी देर बाद..इसीलिए मेरे पास ज़्यादा टाइम नही है…..चल आजा ज़्यादा टाइम ना लगा…. मोटी औरत की चूत
  3. दूसरे दिन जब बापू खेत पर चले गये तो पल पल मेरे लिए भारी होने लगा. मैं बात देख रही थी कि कब खेत मैं खाना पाहूंचाने का सम'य आए और मैं अपने प्यारे बाबुल के पास पहून्च जाऊं. इन दिनों खेत की फसल मेरी हाइट से ऊँची हो गयी थी इसलिए कोई खेत में आसानी से दिखता नहीं था. मैने सोचा यह भी तो अच्छा ही है. अखंड आनंद... परमानंद। बस अब बातें ना बनाओ, अपने लण्ड का कमाल दिखाओ। कुछ तो ऐसा करो सजना की मेरी फुद्दी हमेशा के लिये तुम्हें अपना बना ले।
  4. वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi...मेने मामी द्वारा दी गयी सरसो के तेल की सीसी को लिया ऑर उसे घूर्ने लगा,पता नही क्यो मुझे उस तेल को घूर्ना बहुत अच्छा लग रहा था,या शायद ये मे जानता था कि ये तेल मम्मी के उस छेद पे लगेगा जिसने मुझे पागल कर रखा है,ऑर जिसने मुझ जैसे एक सीधे साधे लड़के को शातिर लड़का बना दिया था हाय राम रे... क्या करूं? क्या ना करूं? कुछ सुझाई नहीं दे रहा था। मन कह रहा था कि जा देवर से लिपट जा। पर मेरे भीतर से एक और आवाज आई- नहीं नहीं ये गलत है।
  5. डीवीडी ख़तम हो चुकी थी……मैं सच में बहुत घबरा गयी थी…मुझे समझ में नही आ रहा था कि में क्या करूँ…….तभी फोन की रिंग बजी……मेने जल्दी से प्लेयर में से डीवीडी निकली, और अपने साथ लेकर अपने रूम में आ गयी…. तुझे सच में मेरे अकेलेपन की चिंता है? तू सच में मेरे साथ समय बिताना चाहता है? सलोनी की आवाज़ और धीमी हो गई थी |

मोटा लंड दिखाइए

झरना- अरे जाओ जाओ भैया.. आप क्या मेरी फुद्दी फाड़ोगे? भाभी की फुद्दी समझा है क्या? उनकी फुद्दी तो बस मेरे भैया से और आज पहली बार आपके लण्ड से चुदी है। मैं पक्की लण्डखोर हूँ। ससुराल में किसी को नहीं छोड़ा है मैंने.....

लड़को ने अगले दिन सब कैमरे फिट करने को बोला और एडवांस लेकर चले गए। मैं अब संतुष्ट था कि भाविष्य में अपने घर और स्टोर पर नजर रख सकता हु कहि से भी। मगर मुझे.....मुझे.....वो करना था......वो अपना.....डालना था.... तुम्हारी ...... तुम्हारी......उसमे...... राहुल ने सलोनी के होंठ हटते ही कहा | पेंट में उसका लौड़ा इस तरह तना हुआ था कि उसे फिर से दर्द होने लगा था |

वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi,में ये कह कर अपने रूम में आ गयी…….अगली सुबह डोर बेल बजी……मेरा गुस्सा पहले ही सातवें आसमान पर था….में गेट पर गयी, और गेट खोला. बाहर अमित खड़ा मेरी तरफ देख कर मुस्करा रहा था….जी तो चाह रहा था कि इस हरामजादे का यही मूह तोड़ दूं……पर में नही चाहती थी कि हंमरे घर की इज़्ज़त बाहर गली मुहल्ले में उछले…….

उउउन्न्नन्ग्घह ......... हाँ मम्मी ..... मैं अपनी लुल्ली ..... को तुम्हारी चूत में पेल-पेल कर तुम्हारी चूत मारता....... राहुल निप्पल को छोड़ पुरे मुम्मे को मसलने लगा था | नंगे मुम्मे को दबाने मसलने का मज़ा ही कुछ और था |

हूँ अब ठीक है.......अब ठीक है ना राहुल बेटा...... सलोनी अपने मुम्मो पर ब्रा के उपर से हाथ फेरते हुए बोली |र अक्षरावरून मुलांची नावे

मैं- औकात की क्या बात करती हैं मेमसाहेब। ये देखिए मेरे पास और 150 रूपए भी है एक जेब में। तभी मुझे मैनेजर का दिया हुआ 1000 का नोट का भी खयाल आया। मैं फिर बोला- और ये देखिए दूसरी जेब में ये देखिए पूरे 1000 के नोट हैं। चम्पा- अरे भैया... मैंने अपनी फुद्दी के अंदर वो क्या कहते हैं? कापर... कापर-टी लगवा के रखी है ना... आप चिंता ना करो बुर में लण्ड पेले जाओ।

ऐसा करने से मेरी प्यारी बहन की चिकनी, मांसल कांख, जो कि पशीने की पतली परत और उससे भीगे हुए उसके स्कूल ड्रेस के ब्लाउज़ से ढके हुए थे, से निकलती हुई तीखी गंध सीधी मेरी नाक में आकर समा गई।

मुझे बहुत खुशी हो रही थी ,मे जब गाँव आया था तो मम्मी को अपना बनाना चाहता था,लेकिन अब मम्मी पूरी मेरी हो गयी थी,वैवाहिक दुष्कर्म क्या है in hindi उसके बाद दोनो अंदर आ गयी. मेने रात के खाने की तैयारी पहले ही कर ली थी. थोड़ी देर रेस्ट करने के बाद मेने रामा और सोनिया को बुलाया, और उनको कहा. कि अमित कल से यहाँ रहने आने वाला है.

News