क्रांति फिल्म डाउनलोड

नंगी लड़की दिखाओ

नंगी लड़की दिखाओ, शालिनी ने अपनी जीभ से चाटकर बलवीर के गाल को साफ कर दिया और बलवीर के होठों पर भी जीभ से चाटकर लगा थूक साफ कर दिया और फिर खड़ी हो गई । क्या ? हैरत्वश स्नेहा का मूँह खुल गया. उसकी गरम साँस का झोंका अपने चेहरे पर महसूस कर नीमा उसके होंठो पर लपक पड़ी, अगले ही पल दोनो माँ-बेटी ने किसी प्रेमियुगल की भाँति एक-दूसरे को चूमना शुरू कर दिया और आपस में जीभ से जीभ लड़ाने लगती हैं.

राकेश बोला आज तो तुम बिल्कुल ही कयामत लग रही हो कयामत से भी ऊपर लग रही हो । तुम्हारा यह ड्रेस लुक बहुत अच्छा है शालिनी तुम्हें देखकर कोई भी नहीं कह सकता कि तुम कोई हीरोइन नहीं हो । तुम बिल्कुल हीरोइन ही लग रही हो । नीमा के बंद नयन और चढ़ि साँसे यह स्पष्ट करने को काफ़ी थी कि वा कामुकता के शुरूवाती ज्वर में तपने लगी है और इसी चीज़ का फ़ायदा उठाते हुए जल्द ही निकुंज का हाथ उसकी जाँघ के चोटिल प्रदेश से ऊपर की दिशा की ओर फिसलता हुआ, उसकी अन्द्रूनि जाँघ की पूरी सतह को घेर चुका था.

आखिरकार पौन घंटे के लगातार संघर्ष के बाद राज छत पर पहुंचने में कामयाब हो ही गया। बहुत आहिस्ता-आहिस्ता बैठे-बैठे वो सरकते हुए सबसे करीबी वेटीलेटर के करीब पहुचा। खड़े होकर चलने की हिम्मत इसलिए न कर सकता था कि कहीं कदमों की आवाज से नीचे रहने वाले चौंक न उठे। नंगी लड़की दिखाओ अरे फिर तो तूने अमरीका में गाय-गोरु, सूअर, मछली, सांप, केकड़े और पता नहीं क्या क्या खाया होगा? ताई जी ने नाक सिकोड़ते हुए कहा|

सेक्सी मूवी फुल एचडी वीडियो

  1. शालिनी हैरान होते हुए - मेरा भाई ऐसा नहीं हो सकता मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा कि भैया ऐसे भी हो सकते हैं । और क्या बताया तेरी फ्रेंड ने।
  2. धर्मवीर जी ने पूजा के दोनो चुचिओ को गौर से देखते हुए उनपर हल्के से हाथ फेरा मानो चुचिओ की साइज़ और कसाव नाप रहे हों । सिलाई मशीन का नीचे का धागा
  3. वो गोरे रंग और थोड़ें गुदाज जिस्म वाली औरत थी और जितना चेहरा उसका नजर आ रहा था , उसे देखकर ही अन्दाजा लगाया जा सकता था कि वो किनी हसीन है। कुछ ही दूर जाकर राज ने पलटकर देखा तो वो बदमाश शिंगूरा की कार की खिड़की पर झुका उसके भाई से बात कर रहा था और उनकी कार की तरफ घूर कर देख रहा था।
  4. नंगी लड़की दिखाओ...लेकिन अब मेरा मन बदल गया है वह हौले से फुसफुसाई लेकिन चाह कर भी अपने बेटे की आँखों में झाँक नही पाती. अब दूसरी सूरत यही थी कि ज्योति वाकई कोई खतरनाक जादूगरनी थी....या उसके गले का सांप जैसा नेकलेस ही अपने अन्दर कोई शैतानी ताकत रखता है।
  5. मैं तुम्हें कभी टूटने नहीं दूँगी! मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ! अनु ने पूरे आत्मविश्वास से कहा| उस पल मेरा दिमाग सुन्न हो चूका था, बस एक दिल था जो प्यार चाहता था और उसे अनु का प्यार सच्चा लग रहा था| पर खुद को फिर से टूटते हुए देखने का डर भी था जो मुझे रोक रहा था| सोमनाथ को अब लगने लगा था कि उसकी उपासना बेटी की आग भड़कने लगी है ,वह खुलने लगी है और धीरे-धीरे बेशर्म भी पड़ने लगी है ।

सुभाष चंद्र बोस का जन्म

बेटा बाहर आ जा !! तेरे डॅड अपने कमरे में जा चुके हैं बोल कर कम्मो ने अपने पुत्र के बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाना चाहा लेकिन इसके पूर्व ही निकुंज दरवाज़ा खोल कर अपनी मा के हाथ को बल-पूर्वक थामते हुए उसे भी अपने पास बाथरूम के अंदर खींच लेता है और इसके पश्चात उसने दरवाज़ा वापस बंद कर दिया.

सालों को गांड चाटनी भी नहीं आती चल दोबारा से आकर चाट ऐसा कहकर उपासना बेड पर चढ़ी और कुत्तिया बन गई और अपनी गांड उपासना ने सोमनाथ की तरफ की हुई थी । पूछा था मैंने। उसने जवाब दिया था कि वो नेकलेस उसकी मां ने उसे मरते हुए दिया था, इसलिए वो नेकलेस को जान से प्यारा समझती है और खो जाने के खौफ से उसे कभी नहीं उतारती। उसकी मां को किसी महापुरूष ने वहा तोहफा दिया था, जो दबर्दस्त गुप्त और ऊपरी ताकतों के मालिक थे।

नंगी लड़की दिखाओ,मैं: दगा कैसा? आप सब को प्यार से जब समझाया की इसे आगे पढ़ने दो तब आप सब ने मुझे ही झाड़ दिया तो मुझे मजबूरन ये करना पड़ा| मुझे क्या पता था की शहर जा कर इसे हवा लग जायेगी और ये ऐसे गुल खिलाएगी?!

बेशरम !! रुक जा निकुंज की अगली निर्लज्ज हरक़त देख कम्मो चिल्लाने पर मजबूर हो गयी और अति-शीघ्र वह अपने पुत्र के समीप पहुँच कर अपने हाथ में पड़का ग्लूकोस का डिब्बा बल-पूर्वक उसकी पीठ पर ठोकने लगती है.

उसका नाम और पता मुझे मालूम हो गया है। मैं कलकत्ते में अपने एक दोस्त को आज ही फोन करता हूं कि वो उसके बारे में हमें आज ही सूचना दे दे। खासतौर पर मालूम करे कि बम्बई के इस लम्बे प्रवास में उसने कितना रुपया मंगवाया है या अपने बैंक से निकाला है।अमर उजाला बागपत न्यूज पेपर today

उपासना - ओ गंडवे क्या सोच रहा है दिखता नहीं है मालकिन सामने बैठी है। चल मेरे पैरों को साफ कर आज गंदे गंदे से लग रहे हैं । अपने भाई के मुंह से ऐसी शायरी सुनकर शरमा गई शालिनी । क्योंकि वह अपने भाई की बहुत इज्जत करती थी और अपने भाई से डरती भी थी और डरे भी क्यों ना उसका बड़ा भाई था, शालीनी के अंदर उसकी आंखों की शर्म इतनी ज्यादा थी कि वह अपने भाई के सामने ज्यादा बोलती तक नहीं थी ।

शालिनी यह सब सुनकर गरम भी हो गई थी और शर्मिंदा भी लेकिन हद तब हो गई जब राकेश ने शालिनी के बालों को और नीचे की तरफ खींचते हुए उसे खड़े-खड़े झुका दिया ।

खेर खाना हुआ और उसके बाद हमने लैपटॉप पर ही एक मूवी देखि, मूवी देखते-देखते अनु सो गई| शाम को मैंने चाय बनाई और बड़ी मुश्किल से बनाई क्योंकि हाथ कांपते थे! रात को खाने के बाद मैंने फिर से बात शुरू की; आप मेरे लिए इतना कर रहे हो की मेरे पास आपको शुक्रिया कहने को भी शब्द नहीं हैं|,नंगी लड़की दिखाओ चुदते वक्त जब उपासना के पैरों में बंधे घुंगरू इतनी तेज आवाज कर रहे थे छनछन की लग रहा था कोई ढोल बैंड वाले मजीरा बजा रहे हैं।

News